What is SGPGI Full Form? SGPGI का Full Form क्या होता है? जानें SGPGI के बारे में जरूरी बातें…

SGPGI Full Form
4.4
(11)

SGPGI Full Form

दोस्तों क्या आपने कभी SGPGI शब्द सुना है? या क्या आप जानते हैं की SGPGI kya hota hai? SGPGI की फुल फॉर्म (SGPGI Full Form) क्या होती है?

Table of Contents

नमस्कार दोस्तों हिन्दी में जानें ब्लॉग पर आप सभी का स्वागत है। क्या आप भी इंटरनेट पर SGPGI के बारे मे (SGPGI Full Form) ढूंढ रहे है? यदि हाँ तो आज मैं इस आर्टिकल के जरिए आपको SGPGI kya hota hai? SGPGI ka Full Form kya hota hai? के बारे में डिटेल में बताने जा रहा हूँ। इस पोस्ट को पढ़कर आप SGPGI kya hota hai? (SGPGI Full Form) के बारे में जान सकेंगे।

SGPGI kya hota hai? (SGPGI Full Form)

तो दोस्तों आपको बता दें कि SGPGI की Full Form Sanjay Gandhi Postgraduate Institute of Medical Sciences (हिंदी में अर्थ संजय गांधी स्नातकोत्तर आयुर्विज्ञान इंस्टीट्यूट) होता है।

SGPGI Full Form : Sanjay Gandhi Postgraduate Institute of Medical Sciences

SGPGI Full Form in Hindi : संजय गांधी पोस्टग्रेजुएट इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइंसेज

SGPGI Full Form : Sanjay Gandhi Postgraduate Institute of Medical Sciences

संजय गांधी पोस्टग्रेजुएट इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइंस (SGPGI) लखनऊ के बारे में

संजय गांधी पोस्टग्रेजुएट इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइंस की स्थापना वर्ष 1983 में हुई थी। NIRF की 2022 की रिपोर्ट के अनुसार संजय गांधी पोस्टग्रेजुएट इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइंस (SGPGI) लखनऊ सभी मेडिकल कॉलेजों में 7वें स्थान पर है। यह इंस्टीट्यूट मेडिकल और संबद्ध विज्ञान जैसी धाराओं में पोस्ट ग्रेजुएट और डॉक्टरेट लेवल का कोर्स प्रदान करता है।

यह इंस्टीट्यूट रायबरेली मार्ग पर मुख्य शहर से 15 किमी की दूरी पर स्थित है। यह इंस्टीट्यूट तथा इसका आवासीय प्रांगण 550 एकड़ क्षेत्र में फैला हुआ है। यह इंस्टीट्यूट मेडिकल काउंसिल ऑफ इंडिया द्वारा मान्यता प्राप्त डिग्री प्रदान करता है तथा अति-विशेषज्ञता शिक्षण, प्रशिशण और अनुसंधान सुविधा प्रदान करता है। यह DM, MCh, MD, Ph.D., Postdoctoral Fellowships (PDF) तथा Postdoctoral Certificate Course (PDCC) प्रदान करता है।

SGPGI Medical Collage
SGPGI Medical Collage

संजय गांधी पोस्टग्रेजुएट इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइंस (SGPGI) लखनऊ के पोस्ट ग्रेजुएट और डॉक्टरेट कोर्स में प्रवेश के लिए, उम्मीदवारों को प्रवेश परीक्षाओं- NEET PG और NEET MS में उपस्थित होना होगा और एक वैध स्कोर सुरक्षित करना होगा।

संजय गांधी पोस्टग्रेजुएट इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइंस (SGPGI) लखनऊ उत्तीर्ण छात्रों को प्लेसमेंट सुविधाएं भी प्रदान करता है। इनके अलावा, संस्थान छात्रों और स्टाफ सदस्यों को विभिन्न प्रकार की कैंपस सुविधाएं प्रदान करता है।

इन्हें भी देखें :-  What is BRA Full Form? BRA का फुल फॉर्म क्या होता है? जानें BRA Term के बारे में सभी जरूरी बातें…

संजय गांधी पोस्टग्रेजुएट इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइंस (SGPGI) लखनऊ के द्वारा करवाए जानें वाले कोर्स

संजय गांधी पोस्टग्रेजुएट इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइंस (SGPGI) लखनऊ में DM, M.Ch, MD , MS और MHA कोर्स की पेशकश की जाती है। संजय गांधी पोस्टग्रेजुएट इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइंस (SGPGI) लखनऊ द्वारा निम्नलिखित कोर्स करवाए जाते हैं :–

  • M.Ch Surgical Gastroenterology (एम.सीएच सर्जिकल गैस्ट्रोएंटरोलॉजी)
  • DM Cardiology (डीएम कार्डियोलॉजी)
  • DM Neurology (डीएम न्यूरोलॉजी)
  • DM Nephrology (डीएम नेफ्रोलॉजी)
  • DM Gastroenterology (डीएम गैस्ट्रोएंटरोलॉजी)
  • M.Ch Neurosurgery (डीएम गैस्ट्रोएंटरोलॉजी)
  • DM Critical Care Medicine (डीएम क्रिटिकल केयर मेडिसिन)
  • M.Ch Endocrine Surgery (एम.सीएच एंडोक्राइन सर्जरी)
  • M.Ch Urology (एम.सीएच यूरोलॉजी)
  • DM Pulmonary Medicine (डीएम पल्मोनरी मेडिसिन)
  • DM Endocrinology (डीएम एंडोक्रिनोलॉजी)
  • DM Clinical Immunology (डीएम क्लिनिकल इम्यूनोलॉजी)
  • DM Clinical Hematology (डीएम क्लिनिकल हेमेटोलॉजी)
  • DM Paediatrics Gastroenterology (डीएम पेडियाट्रिक्स गैस्ट्रोएंटरोलॉजी)
  • M.Ch Paediatric Surgery (एम.सीएच पेडियाट्रिक्स सर्जरी)
  • M.Ch Cardiothoracic and Vascular Surgery (एम.सीएच कार्डियोथोरेसिक और वैस्कुलर सर्जरी)
  • DM Neonatology (डीएम नियोनेटोलॉजी)
  • DM Medical Genetics (डीएम मेडिकल जेनेटिक्स)
  • DM Hematology Pathology (डीएम हेमेटोलॉजी पैथोलॉजी)
  • M.Ch Plastic Surgery (एम.सी एच प्लास्टिक सर्जरी)

वर्तमान मे प्रदान की जाने वाली मेडिकल सुविधायें

मेडिकल विज्ञान के क्षेत्र में मेडिकल सर्विस, शिक्षा व रिसर्च संबंधी सुविधाओं के रूप में Sanjay Gandhi Postgraduate Institute of Medical Sciences (SGPGI) अपने स्थापना के तीन दशक के उपरान्त विकास के कई चरणों को पार किया है।

आज इंस्टीट्यूट का प्रत्येक मेडिकल विभाग अपने आप में एक केन्द्र के रूप में प्रतिष्ठित है। इन विभागों की नियमित ओपीडी होती है, जिनमे प्रत्येक दिन नये मरीजों के अलावा उससे दुगने संख्या में फोलोअप मरीजो को देखा जाता है। फोलोअप मरीजो के लिए ये आवश्यक होती है कि वे आगामी तिथि लेकर जाए जिससे अगली बार जब वे आये तो किसी परेशानी का सामना न करना पडे़।

ओपीडी में डाक्टर से परामर्श एवं जांच के उपरान्त जो भी जांचे व निदान बताए जाते है उनको करवाने की इंस्टीट्यूट में समुचित व्यवस्था यहाँ उपलब्ध है। जांचो के उपरान्त यदि रोग के इलाज हेतु किसी ऑपरेशन की आवश्यकता है ताे वह भी इंस्टीट्यूट में उपलब्ध है। अतः मरीज को एक ही छत के नीचे सभी सुविधायें उपलब्ध हैं।

SGPGI Logo
SGPGI Logo

किसी भी मरीज को दिखाने के लिए परामर्श शुल्क नहीं ली जाती है। नये मरीज के रजिस्ट्रेशन हेतु केवल एक बार 250 रूपये शुल्क लिया जाता है जो एक वर्ष के लिए मान्य है। वर्ष के समापन पर 100 रूपये से इस रजिस्ट्रेशन का नवीनीकरण किया जाता है। एक ही पंजीकरण से इंस्टीट्यूट के किसी भी विभाग में दिखाया जा सकता है। अलग-अलग विभागो के लिए अलग-अलग पंजीकरण नहीं कराना पड़ता है। संजय गांधी इंस्टीट्यूट में कोई भी मेडिकल सेवा निःशुल्क नहीं है, यद्यपि प्रत्येक सेवा अन्य प्राईवेट एवं कॉरपोरेट अस्पतालों के मुकाबले काफी सस्ती एवं निम्न दरों पर उपलब्ध है तथा सभी सरकारी एवं गैर सरकारी कार्यालयों में यहाँ की दरों की मान्यता है।

इस इंस्टीट्यूट में वर्तमान में निम्नलिखित डिपार्टमेंट कार्यरत हैं

हृदय-रोग विभाग (Department of Cardiology)

विभाग द्वारा बच्चों से बुजुर्ग तक होने वाले सभी प्रकार के हृदय रोगों की जाँच एवं उपचार किये जाते है। विभाग में इकोकार्डियोग्राफी, होल्टर, TMT एंजियोग्राफी, एंजियोप्लास्टी, वैल्वुलाप्लास्टी, आइवस, OCT, EP एवं RF एबलेशन तथा जन्मजात सुराख का डिवाइस द्वारा क्लोजर इत्यादि सेवाए उपलब्ध हैं।

हृदय सर्जरी विभाग (Department of Cardiac Surgery)

जिन हृदयरोगो का इलाज का ऑप्शन केवल ऑपरेशन ही है उनके लिए कार्डियक सर्जरी विभाग है। वाल्व रिपेयर, कोरोनरी सर्जरी तथा वैस्कुलर सर्जरी की सभी सुविधायें यहाँ उपलब्ध हैं।

इन्हें भी देखें :-  What is CTS AITT Full Form? CTS AITT की फुल फॉर्म क्या होती है? जानें CTS AITT के बारे में सभी जरूरी बातें…

इण्डोक्राइनोलाजी विभाग (Department of Endocrinology)

एण्डोक्राइनोलाजी विभाग अंर्तस्रावीय रोगों का, जैसे असंतुलित हारमोन्स थायराइड इत्यादि रोगों का उपचार किया जाता है। यहाँ मधुमेह एवं ओस्टियोपोरोसिस जैसे रोगो के इलाज उपलब्ध है।

इण्डोक्राइन एवं ब्रेस्ट सर्जरी विभाग (Department of Endocrine and Breast Surgery)

इण्डोक्राइन एवं ब्रेस्ट (स्तन) सर्जरी विभाग में अन्तःस्त्रावी ग्रन्थियाँ जैसे कि थायराइड, पैराथायराइड, एडरीनल एवं इण्डोक्राइन-पैंक्रियाज तथा स्तन के कैंसर व अन्य रोगों का ऑपरेशन द्वारा इलाज किया जाता है। घेंघा रोग, थायराइड-कैंसर, पैराथायराईड-रोगों, एड्रीनल-ट्यूमर एवं कैंसर, फियोक्रोमोसाईटोमा ट्यूमर, मल्टीपल-इण्डोक्राइन-नियोप्लेशिया रोगों के ऑपरेशन किए जाते हैं।

गेस्ट्रोइण्टरोलॉजी विभाग (Department of Gastroenterology)

यहाँ पर पेट से संबंधित रोगो का निदान व उपचार अनुभवी चिकित्सकों द्वारा किया जाता है। जिगर, भोजन की नली, यकृत, तिल्ली, छोटी आँत, बडी आँत से सम्बन्धित रोगों के निदान हेतु एन्डोस्कोपी, एण्डोस्कोपिक अल्ट्रासाउंड, ERPC कोलोनस्कोपी इत्यादि के जटिल रोगों के इलाज की विशिष्ट व्यवस्था है।

गेस्ट्रोसर्जरी विभाग (Department of Gastrosurgery)

गेस्ट्रोसर्जरी विभाग पेट के विकार को सर्जरी द्वारा निदान करता है। यहाँ पित्ताशय की पथरी, पित्ताशय का कैंसर, लिवर कैंसर, पैनक्रियाज़ कैंसर, क्राॅनिक पैंक्रियाटाइटिस इत्यादि रोगों का उपचार आपरेशन द्वारा किया जाता है।

आनुवांशिक विकार विभाग (Department of Genetics)

आनुवांशिक विकार से पीड़ित रोगियों की समुचित जाँच व चिकित्सा की सुविधाए जेनेटिक्स विभाग में उपलब्ध है। चिकित्सीय सेवा के साथ साथ रोगियो एवं रिश्तेदारों को अनुवांशिक रोग संबंधी परामर्श एवं जानकारी प्रदान करने की भी पूर्ण व्यवस्था है।

इम्यूनोलॉजी विभाग (Department of Immunology)

शरीर में इम्यून सिस्टम के विकार से उत्पन्न हुये विभिन्न रोगों की जाँच, निदान व उपचार की सुविधा क्लीनिकल इम्यूनोलोजी विभाग प्रदान करती है। जिन प्रमुख रोगों का इलाज यहाँ होता है वे हैं रयूमेटाइड अर्थराइटिस, एंकाइलोजि़ंग स्पोंडिलाइटिस, एसएलई, मायोसाइटिस, स्केलेरोडर्मा और वास्कुलाइटिस आदि।

नेफ्रोलॉजी विभाग (Department of Nephrology)

गुर्दे से संबंधित बीमारियो का उपचार नेफ्रोलॉजी विभाग द्वारा किया जाता है। संस्थान में गुर्दा प्रत्यारोपण से पूर्व एवं पश्चात् रोगियो की समुचित देखभाल की भी व्यवस्था है।

यूरोलाजी विभाग (Department of Urology)

संस्थान के यूरोलाजी विभाग में गुर्दा, पेशाब की थैली का कैंसर इत्यादि का इलाज शल्यक्रिया द्वारा किया जाता है।

न्यूरोलॉजी विभाग (Department of Neurology)

मस्तिक, रीढ़ की हड्डी एवं तंत्रिका संबंधी रोगों का समुचित परीक्षण एवं इलाज न्यूरोलॉजी विभाग में होता है। गम्भीर रोग जैसे श्वासकीय लकवा, गुलियन बारे सिन्ड्रोम, मायस्थेनिया ग्रेविस एवं केन्द्रीय तंत्रिका तंत्र के अन्य संक्रमणों के समुचित इलाज का यहाँ प्रबन्ध है। रोगों से सम्बन्धित आवश्यक जाँचें जैसे ई॰ई॰जी॰, ई॰एम॰जी॰ व इवोक्ड पोटेन्शियल की सुविधायें भी यह विभाग प्रदान करता है।

न्यूरोसर्जरी विभाग (Department of Neurosurgery)

यहाँ पर रीढ, स्नायुतंत्र तथा मस्तिष्क के जटिल रोगों का ईलाज आपरेशन द्वारा होता है। इसके अंतर्गत ब्रेन-ट्यूमर, CV जंक्शन, स्कल बेस सर्जरी, वैस्कुलर न्यूरोसर्जरी, स्टीरियोटैक्सी जैसे जटिल ऑपरेशन किए जाते है।

हीमैटोलॉजी विभाग (Department of Hematology)

हीमैटोलॉजी विभाग में रक्त से संबंधित समस्त रोगों जैसे एप्लास्टिक एनीमिया, न्यूट्रीशनल एनीमिया, जेनेटिक एनीमिया (थैलेसीमिया,सिकिल सेल रोग) इत्यादि एवं रक्त कैंसर जैसे माइलोमा, ल्यूकेमिया, लिम्फोमा इत्यादि का परीक्षण एवं उपचार किया जाता है।

क्रिटिकल केयर मेडिसिन विभाग (Department of Intensive Care Medicine)

कुछ मरीजो के प्राण बचाने के लिए सघन निदान एवं उपचार की आवश्यकता पड़ती है। ऐसे मरीजों की देखभाल के लिए क्रिटिकल केयर मेडिसिन विभाग है। इस विभाग में वेन्टीलेटर सुविधाऐं उपलब्ध है।

नेत्रविज्ञान विभाग (Department of Ophthalmology)

इंस्टीट्यूट के इस डिपार्टमेंट में जटिल नेत्र रोगों का निदान व उपचार होता है। विभाग में नियमित रूप से मोतियाबिंद सर्जरी, सम्बलबाई सर्जरी, भेंगापन सर्जरी, मधुमेह रेटिनोपैथी और विभिन्न अन्य रेटिना विकारो के लिये लेजर तथा रेटिना सर्जरी की जाती है। ऑंख के ट्यूमर व अन्य आक्यूप्लास्टिक सर्जरी की सुविधा भी यहाँं उपलब्ध है।

इन्हें भी देखें :-  What is IG Full Form? IG का Full Form क्या होता है? जानें IG के बारे में जरूरी बातें…

लिवर ट्राँसप्लांट विभाग (Liver Transplant Department)

इंस्टीट्यूट के इस डिपार्टमेंट में सर्जरी द्वारा लिवर ट्राँसप्लांट किया जाता है।

माईक्रोबायोलॉजी विभाग (Department of Microbiology)

इस विभाग में सूक्ष्म जीवाणु, विषाणु, कीटाणु, फफूँद, परजीवी, ज्वरबुखार, डेंगू, स्वाईन फ्लू, पोलियो जैसे संक्रमणों के लिए नैदानिक सेवायें प्रदान करता है। इस विभाग में एड्स से संबंधित संक्रमणों का ज्ञात करने के साथ-साथ अन्य जीवाणुओं से होने वाले संक्रमणों का पता लगाने एवं उनके निदान में प्रयुक्त होने वाली जीवाणुरोधी औषिधियों की जानकारी भी उपलब्ध कराता है।

पैथोलॉजी विभाग (Department of Pathology)

पैथोलॉजी विभाग में रक्त, मूत्र एवं अन्य शारीरिक द्रव्य पदार्थो का सभी प्रकार का परीक्षण किया जाता है। यह परीक्षण हिमेटोलॉजी व क्लीनिकल केमिस्ट्री की अलग-अलग प्रयोगशालाओ में होता है। यहाँ बायप्सी एवं सायटोलाजी की सुविधाएं भी उपलब्ध है।

मोलिक्यूलर मेडिसिन बायोटेक्नोलॉंजी विभाग (Department of Molecular Medicine Biotechnology)

आधुनिक चिकित्सक रोगों के निदान एवं उपचार के लिए शारीरिक लक्षणों के आधार पर रक्त मूत्र जाँच एवं एक्सरे इत्यादि पर आधारित यंत्रों द्वारा किया जाता हैं, परन्तु इसके बावजूद कई असाध्य रोगों में निदान एवं उपचार सम्पूर्णतः नहीं हो पाता है। जिन असाध्य रोगों का निदान औपचारिक विधियों द्वारा नहीं हो पाता है, उनका समय रहते जाँच व निदान इस विभाग द्वारा किया जाता है जहाँ प्रशिक्षित एवं विशिष्ट वैज्ञानिकों द्वारा बायोमार्कर्स (Biomarkers) अथवा नए जैविक चिन्हों के आधार पर रोगों की पहचान क्षमता को बढाता है।

रेडियोलॉजी विभाग (Department of Radiology)

यहाँं पर सभी प्रकार की विकिरण जाँचें की जाती हैं। कम्प्यूटराईज़्ड उपकरणों में डिजिटल एक्सरे, 64 एवं 128 स्लाईस CT 3 टेस्ला MRI एन्जियोग्राफी, मैमोग्राफी और डॉप्लर अल्ट्रासाउण्ड की सुविधा उपलब्ध है।

ऐन्सथीसियोलॉजी विभाग (Department of Anesthesia / Anesthesiology)

ऐन्सथीसियोलॉजी अथवा निश्चेतना विभाग अत्यन्त महत्वपूर्ण विभाग है जो सभी प्रकार के आपरेशन से पूर्व, दौरान व ऑपरेशन के पश्चात् की निश्चेतना संबंधी आवश्यक क्रियाएं सम्पन्न करता है। इस विभाग द्वारा पेन क्लीनिक एवं कैंसर पैलियोटिव केयर क्लीनिक भी चलाई जाती है जिसमे कैंसर अथवा अन्य जटिल रोगो के मरीजो के क्रोनिक दर्द का पृथक रूप से इलाज भी किया जाता है।

ट्रांसफ्यूजन मेडिसन विभाग (Department of Transfusion Medicine)

जिन मरीजों को इलाज हेतु रक्त की आवश्यकता होती है, उनकों यह विभाग स्वस्थ एवम् गुणवत्ता पूर्ण रक्त अवयवों की उपलब्धता सुनिश्चित कराता है।

न्यूक्लियर मेडिसन विभाग (Nuclear Medicine Department)

इस विभाग में स्पेक्ट -सीटी, पेट-सीटी, सीटी और स्पेक्ट कैमरा लगे हुए है। इन उपकरणों का उपयोग करते हुए विकिरण के द्वारा कैंसर के मरीजों के साथ-साथ अौर बिमारियों से पीड़ित मरीजों की जाँच और इलाज किया जाता है जैसे थायराइड ग्रन्थि की विकृतयों, न्यूरो-इन्डोक्राइन ट्यूमर और कैंसर से पीड़ित मरीजों के दर्द निवारण हेतु व्यावस्थायें भी हैं।

रेडियोथेरेपी विभाग (Radiotherapy Department)

यहाँ पर उपलब्ध उपकरणों/मशीनों द्वारा कैंसर से पीड़ित मरीजों का कीमोथेरेपी एवं रेडियोथेरेपी प्रक्रिया द्वारा इलाज किया जाता है।

अस्पताल प्रबन्धन विभाग (Hospital Management Department)

अस्पताल का प्रशासन एवं प्रबन्धन अन्य दूसरे प्रबन्धनाें से भिन्न होता है, क्योंकि यह मानव स्वास्थ्य एवं जीवन से सीधे जुडा होता है। अतः कुछ विभाग, अस्पताल के शैक्षिक तथा प्रशासनिक व्यवस्था को सुगठित करने के लिए बनाई गई है।

बायोस्टेटिक्स एवं हास्पिटल इनफोरमेटिक्स विभाग (Department of Biostatistics and Hospital Informatics)

आधुनिक चिकित्सा जगत में चिकित्सा सूचना तन्त्र तथा सांख्यिकी का प्रबन्धन विशेषकर शोध एवं अनुसंधान के लिए अत्यधिक महत्वपूर्ण हो गया है। इस कार्य को बायोस्टेटिक्स एवं हास्पिटल इनफोरमेटिक्स विभाग द्वारा किया जाता है।

इमरजेंसी मेडिसन विभाग (Emergency Medicine Department)

तो दोस्तों यहां इस आर्टिकल में हमे आपको SGPGI की फुल फॉर्म (SGPGI Full Form) : Sanjay Gandhi Postgraduate Institute of Medical Sciences के बारे में जानकारी दी है।

उम्मीद है इस आर्टिकल को पढ़ने के बाद आपको SGPGI की Full Form के बारे में पता चल गया होगा और उम्मीद करता हूं कि आर्टिकल आपको पसन्द आया होगा।

इस इंस्टीट्यूट के बारे में और अधिक जानकारी के लिए आप इनकी ऑफिशियल वेबसाइट https://sgpgims.org.in/ पर विजिट कर सकते हैं। ऑर्टिकल को पूरा पढ़ने के लिए धन्यवाद!

दोस्तों आपको हमारे द्वारा दी गई यह जानकारी कैसी लगी।

अगर ये आर्टिकल आपको पसंद आया हो तो इसे 5 star रेटिंग दीजिए!

Average rating 4.4 / 5. Vote Count: 11

No votes so far! Be the first to rate this post.

दोस्तों अगर आपको यह जानकारी पसंद आई हो तो इसे अपने दोस्तों के साथ शेयर जरूर करें ताकि उन्हें भी इस बारे में जानकारी मिल जाए

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *